बेतिया। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के जिला कार्यालय बलिराम भवन के सभागार में अहमद अली की अध्यक्षता में जिला एवं अंचल स्तरीय पार्टी कार्यकर्ताओं का एक दिवसीय कन्वेंशन का आयोजन किया गया, सर्वप्रथम पार्टी के संस्थापक सदस्य कामरेड सुनील मुखर्जी के 108 वीं जयंती पर उनके तैल्यचित्र पर फूल माला अर्पित किया गया इसके बाद पार्टी कार्यकर्ताओं का कन्वेंशन शुरू हुआ जिसका विधिवत् उदघाटन पार्टी के राष्ट्रीय सचिव एवं पूर्व सांसद नागेन्द्र नाथ ओझा ने किया, कामरेड ओझा को अंगवस्त्र एवं माला पहनाकर सम्मानित किया गया, कामरेड ओझा ने पार्टी के 24 वें महाधिवेशन के फैसले का रिपोर्टिंग करते हुए बताया कि पार्टी अपने संगठन की मजबती के साथ साथ 2024 में भारत को भाजपा मुक्त करने का फैसला लिया गया है, इसके लिए वामपंथ, धर्मनिरपेक्ष, लोकतांत्रिक, जनवादी शक्तियों को एकजुट करने में पार्टी को अहम भूमिका निभाने का फैसला लिया गया है, श्री ओझा ने बताया कि वर्तमान मोदी सरकार कृषि, शिक्षा, रोजगार, स्वास्थ, संविधान, लोकतंत्र, एवं सभी संवैधानिक संस्थाएं संकट में है, इसके खिलाफ संघर्ष तेज करने का आह्वान किया, पार्टी महाधिवेशन ने देश भर में भाजपा भगाओ देश और संविधान बचाओं आंदोलन का भी आह्वान किया है जिसकी शुरुआत दिसम्बर माह में किया जायेगा, श्री ओझा ने आगे बताया कि मोदी सरकार देश की अधिकांश सम्पत्ति को कुछ मुठ्ठी भर लोगों के जिम्मे सौपने के लिए बेचैन है जो देश के बहुसंख्यक आबादी के लिए खतरा है। ओझा ने पार्टी के जन संगठनों को मजबूत करने के साथ साथ पार्टी की शाखाओं को बढाने एवं मजबूत करने पर बल दिया।
कन्वेंशन को राष्ट्रीय परिषद सदस्य ओम प्रकाश नारायण यादव ने पार्टी के राज्य सम्मेलन के फैसले को प्रस्तुत करते हुए बिहार में पार्टी की सदस्यता को बढाने तथा जनता के मुद्दों को लेकर आंदोलन तेज करने का आह्वान किया, बिहार में पार्टी का जनाधार काफी मजबूत रहा है, अपनी इस बिरासत को और मजबूत करने का अपील कार्यकर्ताओं से किया, अल्पसंख्यकों, दलितों, अतिपीछडो के हितों के साथ साथ खेत मजदूर, किसानों, नौजवानों, छात्रों, महिलाओं के हितों की रक्षा के लिए योजना बद्ध तरीके से आंदोलन तेज करने का फैसला राज्य सम्मेलन में लिया गया।
कन्वेंशन को जिला सचिव ओम प्रकाश क्रांति ने संबोधित करते हुए पार्टी के राष्ट्रीय अधिवेशन एवं राज्य सम्मेलन के फैसलें को पं चम्पारण जिला में अमलीजामा पहनाने हेतु संघर्ष तेज करते हुए पार्टी के सम्मेलनों में लिए गए फैसले को लागू करने की गारंटी की। कन्वेंशन में पं चम्पारण जिला के सभी अंचलों के प्रमुख साथियों ने भाग लिया, बड़ी संख्या में महिलाओं एवं युवाओं ने भी कन्वेंशन में बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया।