सगड़ी, आजमगढ़। सगड़ी तहसील क्षेत्र के बनकटिया गांव में एक प्राइवेट विद्यालय के परिसर में अति पिछड़ा एवं अति दलित महासंघ के तत्वाधान में महासंघ के संस्थापक पूर्व अध्यक्ष स्वर्गीय सर्वदेव मौर्य के स्थापना दिवस पर सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। इस दौरान महासंघ के कर्मचारियों और पदाधिकारियों ने सर्वदेव मौर्य की स्मृति चिन्ह पर पुष्प अर्पित कर 2 मिनट का मौन धारण किया और आए हुए अतिथियों और पदाधिकारियों को साल भेंट कर उनका सम्मान किया। इस मौके पर महासंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष यशवंत सिंह चौहान ने भाजपा सरकार पर जमकर बरसा और जातिवाद जनगणना की मांग की। यशवंत सिंह चौहान ने कहा कि पूर्ववर्ती सरकार का मनसा तो साफ नहीं था लेकिन वर्तमान सरकार तो एक कदम आगे बढ़ते हुए ओबीसी के आरक्षण को ही खत्म करने का पूरा षड्यंत्र ही रच दिया। क्योंकि लोकतांत्रिक मूल्यो एवं सामाजिक न्याय का जो मजाक उड़ाया उसका उदाहरण अभी 4 दिन पूर्व बिहार में नीतीश सरकार ने जातिवाद जनगणना शुरू किया तो वहां के ब्राह्मण व भूमिहार समाज के बीजेपी नेताओं ने विरोध किया व उच्च न्यायालय जाकर रोकने की कोशिश किया। जिसकी सुनवाई आज है अति पिछड़ा समाज को तय करना होगा कि पूर्व में डॉक्टर भीमराव अंबेडकर से लेकर बिहार के लेलीन बाबू जगदेव प्रसाद कुशवाहा के साथ भी मनु वादियों ने षड्यंत्र किया व हत्या किया। अब ओबीसी समाज की लोकतांत्रिक हत्या करना चाहते हैं उसका बदला आप अपने वोट की चोट से लिजिये। सामंती सरकार की हत्या देश व प्रदेश से उखाड़ फेंके नहीं तो अन्यथा आप का बेड़ा गड़क होने वाला है क्योंकि न्यायपालिका में भी वही है न्यायपालिका का कोलोनियम सिस्टम जब तक खत्म नहीं होगा तब तक यह महासंघ इसका विरोध करता रहेगा। क्योंकि आप को मालूम होगा कि दिल्ली में एससी समाज की बेटी की हत्या 15 किलोमीटर दूरी पर हुई उसमें भी बीजेपी नेता का हाथ है। उत्तर प्रदेश के मैनपुरी की सांसद डिंपल यादव पर अभद्र टिप्पणी हुई वहां भी बीजेपी नेता द्वारा हुआ उसका भी विरोध यह महासंघ करता है यही स्थिति रही तो वोट प्रणाली भी समाप्त हो जाए और आप सभी लोग सामंतीयों/बीजेपी /आरएसएस के गुलाम बन जाओगे क्योंकि यूपी की कानून व्यवस्था जाति आधारित हो गई है जंगल राज कायम हो गया है आप इस पर विचार करें। इस अवसर पर सूर्यमुखी गोंड, ई० नितीश कुमार मौर्य, कवि शिव शरन चौहान, ओमप्रकाश चौहान, निशा भारती, सविता, रेखा, पुष्पा, अशोक चौहान, नरसिंह चौहान, प्रभाकर गोंड, बालचंद राम, प्रवीण मौर्य, प्रमोद मौर्य सहित सैकड़ों लोग उपस्थित रहे।