आजमगढ़। शनिवार को पुलिस अधीक्षक आजमगढ को पत्रक सौपा कि मु0अ0स0 359/2022 अ0स0 147, 148, 149, 302, 336, 427, भा0द0वि0 थाना गम्भीरपुर में मुल्जिमान शाहिदा पत्नी नेयाज अहमद व तरन्नुम पुत्री नेयाज अहमद साकिन मुहम्मदपुर थाना गम्भीरपुर को घटना में सम्मिलित किया गया था जबकि यह दोनो महिलायें घटना स्थल पर ना ही इनका कोई सर्वोकार है। जिन्होने नोटरी बयान हल्फी देते हुए पुलिस अधीक्षक जनपद आजमगढ़ से मुलाकात कर उनको पत्रक दिया। जिस प्रार्थना पत्र में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक के नाम अपना शपथ-पत्र भी साथ दिया और पुलिस अधीक्षक से यह मांग किया कि हम दोनो महिलाएं जब घटना में सामिल नही थी तो हम लोगो के नाम क्यो एफआईआर किया गया। उपरोक्त महिलाओं ने न्याय पाने के लिये पत्रक देते हुए पुलिस अधीक्षक जनपद आजमगढ न्याय की गुहार लगाते हुए यह मांग किया कि हम लोगो का नाम एफआईआर विवेचक महोदय द्वारा हटाया जाय, क्योकि हम लोगो से इस घटना कोई मतलब नही है। एक पत्रक एलआईयू विभाग को भी दिया गया कि सत्यतता के आधार पर जॉच हो और जॉच में हम दोनो महिलाओं का नाम घटना स्थल में नही है। तो हम दोनो का नाम एफआईआर से निकाला जाय।