आजमगढ़। जिलाधिकारी विशाल भारद्वाज की अध्यक्षता में कल देर सायं कलेक्ट्रेट सभागार में 10 फरवरी से 27 फरवरी तक जिले में फाइलेरिया उन्मूलन के अभियान को सफल बनाने के लिए विभागीय एवं अंतर्विभागीय समन्वय समिति एवं जिला टास्क फोर्स की बैठक आयोजित की गयी। इस अवसर पर जिलाधिकारी ने निर्देशित किया कि सभी संबंधित विभाग, ब्लॉक स्तर पर औषधि सेवन कराने के लिए विभागीय एवं सहयोगी संस्था डब्लूएचओ, यूनिसेफ व जिला पंचायती राज, जिला विद्यालय निरीक्षक, बेसिक शिक्षा अधिकारी, जिला पशु चिकित्सालय, जिला कृषि, आईसीडीएस, सिंचाई व जल निगम एवं अन्य विभाग के सहयोग से अभियान को शत-प्रतिशत सफल बनाना सुनिश्चित करें। मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ0 आईएन तिवारी ने बताया कि जिले में फाइलेरिया उन्मूलन अभियान 10 फरवरी से शुरू होकर 27 फरवरी तक चलाया जाएगा। इस अभियान को सफल बनाने के लिए शासन एवं स्वास्थ्य विभाग काफी सक्रिय है। यह आयोजन फरवरी में शुरू होने वाले आइवरमेक्टिन, डीईसी और एल्बेंडाजोल (आईडीए) अभियान के मद्देनजर किया गया है। इस अभियान के दौरान उम्र के अनुसार ट्रिपल ड्रग थेरेपी यानि आइवरमेक्टिन, डीईसी एवं एल्बेंडाजोल का सेवन कराया जाएगा। डीएमओ शेषधर द्विवेदी ने कहा कि फाइलेरिया उन्मूलन अभियान में आशा कार्यकर्ताओं की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। उनकी सहभागिता के लिए ब्लॉक स्तरीय आशा व आशा संगिनियों का प्रशिक्षिण शिविर का आयोजन किया जा रहा है। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी आनन्द कुमार शुक्ला, अपर जिलाधिकारी प्रशासन अनिल कुमार मिश्र, अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ0 संजय गुप्ता, नोडल अधिकारी डॉ0 अरविन्द चौहान, जिला कार्यक्रम अधिकारी श्री मनोज कुमार मौर्य, समस्त एमओआईसी सहित संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे।