मुबारकपुर, आजमगढ़। रमजान के महीने मे रोजेदारों को इफ्तार देना 70 गुना सवाब माना जाता है। इसको लेकर क्षेत्र के देवकली तारन गांव निवासी सामजसेवी एवं पत्रकार अनवार अहमद के निवास स्थित मदरसे पर क्षेत्र के सैकड़ों रोजेदारों ने बुधवार की शाम दावत-ए-इफ्तार में शरीक होकर देश की सलामती एवं शांति सौहार्द के लिए दुआएं मांगी। इस मौके पर उपस्थित मुफ्ती इनामुलहक ने बताया कि रोजेदारों को इफ्तार कराना काफी सवाब कमाने के बराबर होता है। रोजेदार अल्लाह के नेक बंदे होते है। रोजेदार अपने भूख व प्यास को बर्दाश्त कर खुदा की इबादत में मशगूल रहते है। रोजेदार की एहतराम करना एक बहुत बड़ा नेकी का कार्य होता है। उन्होंने ने कहा कि रमजान के महीने मे अल्लाह तआला नेकियों का बदला एक से 70 गुना बढ़ा देता है। इस अवसर पर अनवार अहमद ने कहा कि यह महिना रमजान का पवित्र महिना है। हम सभी को अल्लाह तआला के बताए रास्ते पर चलने पर अमल करना चाहिए। रमजान महीने में हर साहेबेनिसाब को जकात, फ़ितरा अदा करना अनिवार्य है। इस अवसर पर कारी वसीम, टीवीएस एजेंसी के प्रोपराइटर हाजी मोहम्मद शाहिद रज़ा, साजिदा क्लीनिक के मुख्य चिकित्सक बाल रोग विशेषज्ञ डॉक्टर मोहम्मद बेलाल खान, जमाल अहमद प्रधान, समाजसेवी नदीम अहमद, पूर्व प्रधान, समाजसेवी ईरशाद अहमद, इरफान अहमद मंसूरी, पूर्व प्रधान सगीर अहमद, शाहिद रज़ा उर्फ दुर्गा, एहसान अहमद उर्फ मुन्ना, मुख्तार खान आदि लोग उपस्थित रहे।