रिपोर्ट, वरुण सिंह । वाराणसी में रिटायर कर्नल उपेन्द्र राघव से प्रधानमंत्री मोदी की भतीजी बनकर एक महिला ने 21 लाख की ठगी का मामला सामने आया है, रिटायर कर्नल के पैरों तले उस वक्त जमीन खिसक गई जब पीएमओ ने ऐसी किसी भी महिला का सम्बंध होने से इंकार कर दिया, इसके बाद कर्नल ने ठगी का मामला दर्ज कराया है, जानकारी के मुताबिक नदेसर इलाके में रहने वाले रिटायर कर्नल उपेंद्र राघव से उसी इलाके में रहने वाले रमेश शर्मा और बलिया की रहने वाली कोमल पाण्डेय ने एक वेरोनिका नाम की महिला से मिलवाया, वेरोनिका ने खुद को पीएम मोदी की भतीजी बताया और रिटायर कर्नल को विश्वास में भी ले लिया, उपेन्द्र राघव के मुताबिक वेरोनिका जयपुर राजस्थान की रहने वाली है, जिसने स्टॉक मार्केट में रुपये लगाकर मुनाफा कमाने की बात कही थी, इसके बाद रमेश के एकाउंट में 21 लाख रुपये ट्रांसफर करवाएं, वेरोनिका जयपुर की रहने वाली है, पहचान होने के बाद उपेन्द्र राघव से वो लगातार व्हाट्स एप पर चैटिंग करने के साथ ही अपने आप को पीएम मोदी की भतीजी भी बताती थी, रिटायर्ड कर्नल ने बताया कि उनकी मां की तबियत खराब रहती है, तो वेरोनिका ने पीएमओ में पीएम मोदी के नाम से खत भी लिखवाया था, जिसमें मां के इलाज के लिए आर्थिक मदद की बात लिखवाई थी, जब उपेन्द्र राघव को इस बात का एहसास हुआ कि वो ठगी का शिकार हो गए है, तो उसने वाराणसी के कैंट थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई, जिसके बाद वाराणसी कैंट पुलिस भी सकते में हो गयी, पुलिस ने सबसे पहले पीएमओ से इस बात की पुष्टि किया कि वेरोनिका का सम्बंध पीएम से है कि नहीं, पीएमओ ने वेरोनिका का सम्बंध पीएम मोदी से होने की बात जैसे ही नकारी, पुलिस ने मामले में वेरोनिका और कैंट इलाके में रहने वाले रमेश के खिलाफ ठगी का मुकदमा दर्ज कर जांच में जुट गई है ।