वैशाली/हाजीपुर। वैशाली समाहरणालय सभागार में दुर्गा पूजा के अवसर पर विधि- व्यवस्था संधारण को लेकर हुई बैठक की अध्यक्षता करते हुए जिलाधिकारी यशपाल मीणा एवं पुलिस अधीक्षक रवि रंजन कुमार ने कहा है कि दुर्गा पूजा, 2023 के अवसर उत्कृष्ट भीड़-प्रबंधन, सुगम यातायात तथा सुदृढ़ विधि-व्यवस्था संधारण प्रशासन की सर्वोच्च प्राथमिकता है। सभी पदाधिकारी इसके लिए सजग, तत्पर एवं प्रतिबद्ध रहें। जिलाधिकारी ने कहा कि पदाधिकारीगण आसूचना तंत्र को सुदृढ़ एवं सक्रिय रखेंगे तथा संवेदनशील स्थानों पर विशेष सतर्कतामूलक कार्रवाई करेंगे।
बताया गया कि इस वर्ष15 अक्टूबर (रविवार) को शारदीय नवरात्रि का कलश स्थापित होगा। 21, 22 एवं 23 अक्टूबर को क्रमशः सप्तमी, महाअष्टमी एवं महानवमी मनाया जाएगा। 24 अक्टूबर को दशहरा (विजयादशमी) है। इन सबके मद्देनजर सुदृढ़ प्रशासनिक तैयारी सुनिश्चित रहनी चाहिए। जिलाधिकारी ने बताया कि जिला स्तर से सभी मुख्य स्थलों पर दंडाधिकारियों तथा पुलिस पदाधिकारियों की प्रतिनियुक्ति की जाएगी। सभी पदाधिकारी संवेदनशील एवं अतिसंवेदनशील स्थानों पर विशेष सतर्कता बरतेंगे तथा असामाजिक तत्वों के विरूद्ध निरोधात्मक एवं दण्डात्मक कार्रवाई करेंगे। डीएम एवं एसपी ने सभी पदाधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि पर्व-त्योहार के मद्देनजर असामाजिक तत्वों पर कड़ी निगरानी रखे।
डीएम ने प्रखण्ड स्तरीय पदाधिकारियों एवं सभी थानाध्यक्ष को निदेश दिया कि पूजा समितियों से निरंतर समन्वय बना कर उनसे सार्थक संवाद कायम रखें। पूजा पंडालों के पास पूजा समिति से सीसीटीवी कैमरा लगवाना सुनिश्चित करेंगे तथा इस आशय का फ्लैक्स/बैनर जगह-जगह प्रदर्शित कराएं कि आप सभी लोग सीसीटीवी की नजर में हैं। उन्होंने कहा कि पूजा स्थलों पर महिलाओं एवं पुरूषों के लिए अलग-अलग पंक्ति बनाना आवश्यक है ताकि श्रद्धालुओं को भी कोई समस्या न हो तथा भीड़ प्रबंधन एवं विधि-व्यवस्था संधारण भी सुगमता से किया जा सके। सभी संबंधित पदाधिकारी पूजा समितियों से समन्वय कर इसे सुनिश्चित करेंगे। दुर्गा पूजा आयोजन के क्रम में जनहित एवं आमजन की व्यापक सुरक्षा की दृष्टिकोण से पूजा समितियों/व्यवस्थापकों को भी जरूरी निर्देश दिए गए हैं- पूजा पंडाल में विधिवत अस्थायी विद्युत सम्बद्धता अवश्य लें एवं पंडाल का निर्माण विद्युत तारों से सुरक्षित दूरी पर ही करें जिसे विद्युत अधिनियमों का उल्लंघन नहीं हो।पंडालों की मजबूती का विधिवत जाँच करायी जाए। पूजा पंडाल के निर्माण में अग्नि सुरक्षा नियमों एवं मानकों का अनुपालन किया जाए। लाउडस्पीकर अधिनियम के नियमो का अनुपालन किया जाय। जिलाधिकारी ने कहा कि विद्युत विभाग के अभियंताओं को सुनिश्चित करना होगा कि पूजा पंडालों में कहीं भी लूज वायर न रहे। नगर परिषद,तथा नगर पंचायत अपने-अपने कार्यक्षेत्र में साफ-सफाई एवं प्रकाश की उत्तम व्यवस्था सुनिश्चित करेंगे। इसके लिए नगर निकायों की डेडिकेटेड टीम क्रियाशील रहे।
डीएम ने कहा कि पूजा आयोजन के लिए शत-प्रतिशत तथा ससमय अनुज्ञप्ति निर्गत कराना सुनिश्चित करेंगे। अनुज्ञप्ति में अंकित स्थल एवं मूर्ति विसर्जन मार्ग का शत-प्रतिशत भौतिक सत्यापन भी सुनिश्चित करेंगे। आपतिजनक स्लोगन, कार्टून इत्यादि पर रोक है। इसे सभी पदाधिकारी सख्ती से सुनिश्चित करेंगे। डीएम ने कहा कि किसी भी नदी में मूर्ति विसर्जन पर पूर्ण प्रतिबंध रहेगा। मूर्ति विसर्जन के लिए पूर्व में निर्गत दिशा-निदेशों का अक्षरशः अनुपालन कराना होगा। इसके लिए सुरक्षित और पर्यावरण के अनुकूल मूर्ति विसर्जन की व्यवस्था सुनिश्चित कराने का निदेश दिया गया। मूर्ति विसर्जन के मार्ग का निर्धारण कर सभी मार्गों को एसडीओ और एसडीपीओ स्वयं से देख लेंगे तथा मूर्ति विसर्जन हेतु कृत्रिम घाटों का स्थल निरीक्षण करना भी सुनिश्चित करेंगे। डीएम ने कहा कि विसर्जन जुलूस एवं विसर्जन स्थल पर आतिशबाजी पर रोक है। सभी अनुमंडल पदाधिकारी एवं अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी इसे सुनिश्चित कराएंगे। विसर्जन जुलूस में डीजे पर पूर्ण प्रतिबंध रहेगा। विसर्जन जुलूस की निगरानी सीसीटीवी कैमरा और ड्रोन से करने का निर्देश दिया गया। इसके लिए शहरी क्षेत्र में बड़े-बड़े स्क्रीन लगाने तथा उन सभी स्क्रीन को सीसीटीवी से जोड़ने का निर्देश दिया गया ताकि लोगों में स्पष्ट मैसेज चला जाए की सभी जगह सीसीटीवी क्रियाशील है। समीक्षा के क्रम में अनुमंडल पदाधिकारी हाजीपुर के द्वारा बताया गया कि हाजीपुर अनुमंडल में कुल 341 पूजा पंडाल बनाए जा रहे हैं, कुल 374 जगह पर मूर्ति स्थापना की जा रही है तथा 319 विसर्जन जुलूस निकाले जाने की सूचना प्राप्त है। नीरोधात्मक कार्रवाई के अंतर्गत उन्होंने बताया कि हाजीपुर अनुमंडल में लगभग 2800 बाउंड डाउन किया जाना था इसमें अभी तक 17 बांड डाउन कर लिया गया है।शस्त्र सत्यापन के संबंध में बताया गया कि कुल 1766 आर्म्स का सत्यापन होना है जिसमें 1251 आर्म्स का सत्यापन कर लिया गया है। इस पर जिलाधिकारी के द्वारा स्पष्ट निर्देश दिया गया की हर हाल में 18 तारीख तक बांड डाउन एवं आर्म्स सत्यापन कर लिया जाए एवं वैसे लोग जो अपने आर्म्स का सत्यापन नहीं करा रहे हैं उनका आर्म्स या तो सस्पेंड करने अथवा कैंसिल करने का प्रस्ताव उपस्थापित किया जाए। अनुमंडल पदाधिकारी ने बताया कि हाजीपुर अनुमंडल में कुल 255 डीजे हैं जिसमें अभी तक 56 डीजे को जप्त कर लिया गया है और सख्त चेतावनी दी गई है कि जो लोग भी डीजे थाना पर जमा नहीं करेंगे उन पर प्राथमिकी दर्ज कर कार्रवाई की जायेगी। जिलाधिकारी के द्वारा सभी पूजा पंडालों का जिओ टैगिंग करने और जहां-जहां सांस्कृतिक कार्यक्रम हो रहा है उन सभी जगह का स्थल निरीक्षण कर लेने का निर्देश दिया गया। विजयदशमी के दिन रावण वध का कार्यक्रम आयोजित होता है। इस अवसर पर रावण वध के सभी स्थानों पर बैरिकेडिंग सहित सारी व्यवस्थाओं को एसडीओ और एसडीपीओ खुद से देख लेंगे। बैठक में डीएम और एसपी के साथ अपर समाहर्ता वैशाली,सभी अनुमंडल पदाधिकारी, अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी, सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी, अंचलाधिकारी एवं थानाध्यक्ष उपस्थित थे।