स्वतंत्र भारत मुबारकपुर से अबुल फैज की रिपोर्ट 
(मुबारकपुर) आज़मगढ़ । विश्व प्रसिद्ध दीनी दरसगाह अल जामीयतुल अशरफिया मुबारकपुर के संस्थापक हुज़ूर हाफिज मिल्लत मौलाना शाह अब्दुल अज़ीज़ मुहद्दिस मुरादाबादी के 49 वें दो दिवसीय उर्स एवं जलसा दस्तारबंदी की तैयारियां जोर-शोर से चल रही हैं। यह उर्स इस बीर 14 और 15 दिसम्बर दिन बृहस्पतिवार और शुक्रवार को आयोजन होगा, इस सिलसिले में सरबराह ए आला अल्लामा शाह अब्दुल हफीज़ अजीज़ी की अध्यक्षता में विगत दिनों सदस्य उर्स कमेटी और अध्यापक की मीटिंग में जिम्मेदारों को बेहतर इंतजाम की हिदायत दी गई है जिससे ज़ायरीन को किसी भी प्रकार की समस्या का सामना न करना पड़े, साथ ही उर्स गाह में किसी भी गैर-शरई मामले की अदाएगी न हो सके क्योंकि यह उर्स महिलाओं और लड़कियों की हाज़री पर सख्त प्रतिबंध है, साथ-साथ ज़ायरीन को नमाज़ बा जमाअत की पाबंदी भी ज़रूरी है जिला प्रशासन, मुबारकपुर थाना और नगर पालिका मुबारकपुर उर्स के बेहतर इंतज़ाम में बेहतर भूमिका निभाने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं, उर्स की शुरुआत गुरुवार की सुबह हाफिज मिल्लत के आवास पर सामूहिक कुरान खानी से होगी, फिर चादरपोशी और गुलपाशी का सिलसिला शुरू जाएगा, जो पूरे दिन जारी रहेगा, इशा की नमाज़ के बाद अजीजुल मस्जिद में इजलास होगा, उर्स के दूसरे दिन भी कुरान की तिलावत से शुरू होगा और शाम तक चादर पोशी का सिलसिला जारी रहने के बाद ययरात में जलस ए दस्तार फज़ीलत का आयोजन होगा, जिसमें जामीया के फारगीन की दस्तार बंदी कर दयकी जाएगी । यह जानकारी जामिया के प्रबंधक हाजी सरफराज अहमद ने दी. उन्होंने जायरीनों से अपील की है कि वह अपने सहयोग से उर्स की पवित्रता और विशिष्टता बनाए रखें