सगडी़ संवाददाता / आनंद गौड़ 

विकसित भारत संकल्प यात्रा वंचितों व पात्रों को जोड़ने का सशक्त माध्यम : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

सगड़ी: सगड़ी तहसील क्षेत्र के अजमतगढ़ खंड विकास की दूसरे चरण में विकसित भारत संकल्प यात्रा पहुंची सगड़ी कस्बा व कसडा आइमा विकसित भारत संकल्प यात्रा के चौपाल में मुख्यमंत्री के संबोधन को सुनाया गया । सीधा प्रसारण मुख्यमंत्री ने विकसित भारत संकल्प यात्रा की प्रशंसा की और कहा कि विकसित भारत संकल्प यात्रा वंचितों व पात्रों को जोड़ने का एक सशक्त माध्यम है । इस दौरान पात्रों का हुआ पंजीकरण लाभार्थियों को किया गया सम्मानित विकसित भारत के संकल्प की दिलाई गई शपथ।

मिली जानकारी के अनुसार मंगलवार को सुबह 10:00 बजे विकसित भारत संकल्प यात्रा सगड़ी कस्बा में पहुंची इस दौरान ग्राम प्रधान सफरुद्दीन ने माल्यार्पण कर स्वागत किया वहीं चौपाल लगाकर विभिन्न विभागों के द्वारा पात्रों का पंजीकरण किया गया तो लाभार्थियों को सम्मानित किया गया । इस दौरान एडीओ पंचायत सुभाषचंद्र शर्मा व अजमतगढ़ प्रमुख प्रतिनिधि मनीष मिश्रा ने लोगों को योजनाओं की जानकारी दी व शपथ दिलाई ।

वहीं दूसरे चरण के दूसरे पैर में विकसित भारत संकल्प यात्रा 2:00 बजे कसडा़ आइमा गांव में पहुंची जहां सचिव अमरजीत व ग्राम प्रधान सुमित्रा यादव ने विकसित भारत संकल्प यात्रा का स्वागत किया विभिन्न विभागों के द्वारा स्टॉल लगाकर पत्रों का पंजीकरण किया गया इस दौरान मोदी की गारंटी वैन से सीधा प्रसारण मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का ग्रामीण व कर्मचारियों को दिखाया गया मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विकसित भारत संकल्प यात्रा की प्रशंसा की और कहा कि वंचितों व पत्रों को जोड़ने का एक सशक्त माध्यम है विकसित भारत संकल्प यात्रा की प्रतिदिन मानिटरिंग की जा रही है इससे ज्यादा से ज्यादा लोगों को जोड़ने के लिए कर्मचारियों को प्रेरित किया वहीं विकसित भारत संकल्प यात्रा की चौपाल में अजमतगढ़ प्रमुख प्रतिनिधि मनीष मिश्रा ने ग्रामीण व कर्मचारियों को विकसित भारत संकल्प यात्रा की शपथ दिलाई व लाभार्थियों को सम्मानित किया । इस दौरान प्राथमिक विद्यालय के बच्चों के द्वारा एक से बढ़कर एक मनमोहक कार्यक्रम प्रस्तुत किए गए कार्यक्रम में मुख्य रूप से सचिन रामकेश पटेल प्रदीप उपाध्याय जितेंद्र कनौजिया सुरेंद्र प्रसाद अमरजीत ग्राम प्रधान दीपक यादव , सरफुद्दीन,  सोनू सिंह पंचायत सहायक रिंपी चौहान शहीद दर्जनों की संख्या में ग्रामीण महिला व पुरुष मौजूद रहे।