आजमगढ़ के सांसद दिनेश लाल यादव निरहुआ का प्रयास रंग लाया है, आजमगढ़-वाराणसी रेल मार्ग का फाइनल लोकेशन सर्वे का कार्य पूरा हो चुका है, यह रेल लाइन आजमगढ़ से आगे गोरखपुर के नेटवर्क से जुड़ेगा, इंजीनियरों ने इसके लिए 89 किलोमीटर की नई रेललाइन बिछाने का खाका खींच दिया है, इस रेल लाइन के बन जाने से वाराणसी से आजमगढ़ की ट्रेन से दूरी 95 किमी और प्रति यात्री किराया लगभग 65 रुपये हो सकता है, आगामी बजट में एक हजार करोड़ से ऊपर का बजट भी परियोजना को मिल जाएगा, बता दें कि आजमगढ़-वाराणसी के बीच में कुल सात रेलवे स्टेशन बनाने का प्रस्ताव है, इस परियोजना में आजमगढ़ के सठियांव और में के दोहरीघाट के बीच बिछने वाला 34 किमी का रेलखंड भी शामिल है, जो 1319 करोड़ की लागत से पहले से बन रहे दोहरीघाट-सहजनवा (गोरखपुर) रेलखंड से जुड़कर बलिया, गाजीपुर, मऊ वासियों को इसका सीधा लाभ मिलेगा, बता दें कि औड़िहार को रानी की सराय रेलवे स्टेशन से जोड़ने के लिए 55 किमी. की नई रेललाइन बिछाई जाएगी, रानी की सराय से आठ किमी दूर आजमगढ़ रेलवे स्टेशन पहले से जुड़ा है, इसके अलावा पूर्वोत्तर रेलवे के बनारस मंडल अंतर्गत वाराणसी सिटी स्टेशन से 32 किमी दूर औड़िहार स्टेशन पहले से जुड़ा हुआ है।