आजमगढ़ पुलिस ने जनपद के विभिन्न थानों की पुलिस ने गैंगस्टरों की 24 घंटे के अंदर उनकी प्रॉपर्टी को जहां जप्कित किया है, वहीं पास्को कोर्ट ने किशोरी को अगवा करने वाले आरोपी को 7 वर्ष की सजा व 51000 का जुर्माना लगाया है ।
अब जाने पहली खबर विस्तार से 
आजमगढ़ पुलिस द्वारा 24 घण्टे में 04 गैंगेस्टरों के विरूद्ध अन्तर्गत धारा 14(1) उ.प्र. गैंगेस्टर एक्ट के तहत अवैध रूप से अर्जित कुल करीब 04 लाख रूपयें की सम्पत्ति का जब्तीकरण की कार्यवाही की गयी है, जिसमें थाना बिलरियागंज से क्रय की गयी भूमि (कीमत लगभग 02,80,800/- रूपये),  थाना रौनापार (02 गैंगेस्टरों) से 02 मोटरसाइकिल (कीमत लगभग 57,700/- रूपये) तथा थाना देवगांव से एक होण्डा मोटरसाइकिल (कीमत लगभग 60,000/- रूपयें) की सम्पत्ति जब्तीकरण की कार्यवाही की गयी है। जिनका विवरण निम्नवत है-
थाना बिलरियागंज पर पंजीकृत मु0अ0सं0- 302/2022 धारा 3(1) उ0प्र0 गैंगेस्टर एक्ट से सम्बन्धित अभियुक्त प्रदीप यादव पुत्र रामबदन यादव निवासी शहबुद्दीनपुर थाना बिलरियागंज, जनपद आजमगढ़ द्वारा अपने गैंग के सदस्यों के साथ मिलकर वर्ष 2006 से शराब अपमिश्रित करना, हत्या का प्रयास व अन्य अपराधों में संलिप्त है। अभियुक्त के विरूद्ध कुल 43 मुकदमें दर्ज है। अभियुक्त द्वारा अपराध कारित कर अवैध रूप से अर्जित धनराशि से 0.036 हे0 भूमि क्रय किया गया । जिसका मूल्य 02 लाख 80 हजार 800 रूपये निर्धारित किया गया है। उपरोक्त 0.036 हे0 भूमि का मूल्य 2,80,800/- रुपये को अन्तर्गत धारा 14(1) उ.प्र. गिरोहबन्द एवं समाज विरोधी क्रिया कलाप निवारण अधिनियम-1986 के तहत दिनांक 16.12.2023 को जिला मजिस्ट्रेट आजमगढ़ विशाल भारद्वाज के द्वारा कुर्की का आदेश प्राप्त कर दिनांक 07.01.2024 को उक्त सम्पति को थाना प्रभारी बिलरियागंज बसन्त लाल मय हमराह पुलिस बल द्वारा नियमानुसार जब्तीकरण की कार्यवाही की गयी है।
थाना देवगांव पर पंजीकृत मु0अ0सं0- 219/2023 धारा 3(1) उ0प्र0 गैंगेस्टर एक्ट से सम्बन्धित अभियुक्त 1. अभियुक्त शाह आलम पुत्र सदरे आलम उर्फ सदलू, निवासी बंजारेपुर, थाना गौराबादशाहपुर, जनपद जौनपुर* द्वारा अपने गैंग के सदस्यों के साथ मिलकर गोवध जैसे अपराधों में संलिप्त है। अभियुक्त द्वारा अपराध कारित कर अवैध रूप से अर्जित धनराशि से मोटरसाइकिल होण्डा UP62 CH 49 क्रय किया गया । जिसका मूल्य 60,000/- रूपये निर्धारित किया गया है।
उपरोक्त मोटरसाइकिल का मूल्य 60,000/- रुपये को अन्तर्गत धारा 14(1) उ.प्र. गिरोहबन्द एवं समाज विरोधी क्रिया कलाप निवारण अधिनियम-1986 के तहत दिनांक 16.12.2023 को जिला मजिस्ट्रेट आजमगढ़ श्री विशाल भारद्वाज के द्वारा जब्तीकरण का आदेश प्राप्त कर दिनांक 08.01.2024 को उक्त सम्पति को थाना प्रभारी रौनापार राजीव कुमार मिश्र मय पुलिस बल द्वारा नियमानुसार जब्तीकरण की कार्यवाही की गयी हैं।
थाना रौनापार पर पंजीकृत मु0अ0सं0- 357/2022 धारा 3(1) उ0प्र0 गैंगेस्टर एक्ट से सम्बन्धित अभियुक्त 1. अनिल यादव पुत्र स्व0 जीवधन यादव व 2. अखिलेश यादव पुत्र स्व0 जीवधन यादव निवासी गण कुढ़ही थाना महराजगंज, जनपद आजमगढ़* द्वारा अपने गैंग के सदस्यों के साथ मिलकर हत्या व अन्य अपराधों में संलिप्त है। अभियुक्तों द्वारा अपराध कारित कर अवैध रूप से अर्जित धनराशि से क्रमशः 01 मोटरसाईकल सुपर स्पलेन्डर संख्या UP50 BU 3219 व 01 मोटरसाइकिल सुपर स्पलेन्डर UP50 AB 1463 क्रय किया गया । जिसका मूल्य क्रमशः 43,200/- रूपये व 14,500/- रूपये निर्धारित किया गया है। उपरोक्त दोनो मोटरसाइकिल का मूल्य 57,700/- रुपये को अन्तर्गत धारा 14(1) उ.प्र. गिरोहबन्द एवं समाज विरोधी क्रिया कलाप निवारण अधिनियम-1986 के तहत दिनांक 16.12.2023 को जिला मजिस्ट्रेट आजमगढ़ श्री विशाल भारद्वाज के द्वारा जब्तीकरण का आदेश प्राप्त कर दिनांक 08.01.2024 को उक्त सम्पति को थाना प्रभारी रौनापार संजय कुमार पाल मय पुलिस बल द्वारा नियमानुसार जब्तीकरण की कार्यवाही की गयी हैं।
दूसरी खबर विस्तार से 
किशोरी को अगवा करने के आरोपी अभियुक्त को 07 वर्ष के कारावास की सजा व 51 हजार रुपये जुर्माना
दिनांक- 05.08.2014 को वादी मुकदमा थाना अतरौलिया आजमगढ़ ने थाना स्थानीय लिखित तहरीर दिया कि विपक्षी अमन सिंह पुत्र राजेश सिंह निवासी परानपुर थाना अतरौलिया वादी की नाबालिग लडकी को बहला-फुसलाकर भगा ले गया।  
उपरोक्त नामजद अभियुक्त के विरूद्ध थाना अतरौलिया पर मु0अ0सं0- 227/2014 धारा 363/366/342 भादवि0 पंजीकृत किया गया था।  बाद विवेचना गिरफ्तार अभियुक्त के विरूद्ध आरोप पत्र मा0 न्यायालय दाखिल किया गया। 
➡ मुकदमा उपरोक्त में 07 गवाह परीक्षित हुए है।  
➡ दिनांक- 11.12.2024 को मा0 न्यायालय पास्को कोर्ट आजमगढ़ द्वारा मुकदमा उपरोक्त से सम्बन्धित अभियुक्त अमन सिंह पुत्र राजेश सिंह निवासी परानपुर थाना अतरौलिया आजमगढ़ को दोष सिद्ध पाते हुये अभियुक्त उपरोक्त को 07 वर्ष के कारावास की सजा व 51 हजार रुपये के अर्थ दण्ड से दण्डित किया गया हैं।