रिपोर्ट, वरुण सिंह/वैभव उपाध्याय आजमगढ़ । लोकसभा चुनाव की अधिसूचना में मात्र कुछ ही हफ्ते बच्चे हुए हैं, ऐसे हाल में आजमगढ़ लोकसभा की वीआईपी सीट से भाजपा का उम्मीदवार कौन? सांसद दिनेश लाल यादव उर्फ निरहुआ, जमीनी नेता पूर्व मंत्री यशवंत सिंह या यह कहें की सांसद दिनेश लाल यादव की छाया के रूप में साथ रहने वाली भोजपुरी स्टार आम्रपाली दुबे? इन तीन

दावेदारों में किसको भाजपा टिकट देती है, यह आने वाले कुछ ही दिनों में लोगों को पता चल जाएगा, वैसे देखा जाए तो लोकसभा का चुनाव लड़ने की बात पर सांसद दिनेश लाल यादव उर्फ निरहुआ हमेशा कुछ खुलकर बोलने को अभी तक तैयार नहीं है, वहीं पूर्व मंत्री यशवंत सिंह की बात करें तो उन्होंने निर्दल प्रत्याशी के रूप में अपने पुत्र रिशु सिंह को निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में एमएलसी का चुनाव लड़ाया था, और रिशु सिंह के सामने सपा से एमएलसी रहे राकेश यादव उर्फ गुड्डू को, तो वहीं भाजपा ने पूर्व सांसद रमाकांत यादव जो वर्तमान में फूलपुर पवई से सपा के सीट से

विधायक हैं, उनके पुत्र पूर्व विधायक अरूणकांत यादव को चुनाव मैदान में उतारा था, लेकिन पूर्व मंत्री यशवंत सिंह की जमीनी पकड़ व कुशल राजनीतिक नेतृत्व ने अपने पुत्र रिशु सिंह जो निर्दल प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़ाया था, एमएलसी का चुनाव भारी मतों से जीताने का कार्य किया था, इस जीत ने यह साबित कर दिया था कि पूर्व मंत्री यशवंत सिंह की आजमगढ़ जनपद और मऊ जनपद में काफी लोकप्रियता है, पुत्र को चुनाव जीताने के बाद कहीं ना कहीं यशवंत सिंह काफी राजनीतिक रूप से मजबूत हुए हैं, बता दें कि पिछले दिनों पूर्व मंत्री यशवंत सिंह का उनके समर्थकों ने जन्मदिन मनाया था, जन्मदिन के पहले आजमगढ़ से लेकर मऊ तक कोई ऐसी चट्टी, चौराहा या बाजार नहीं था, जहां पर उनके समर्थकों ने उनके समर्थन में होर्डिंग लगाकर अपनी आस्था दिखाने का कार्य न किया हो, बता दें कि जन्मदिन के दिन हजारों की संख्या में उनके कार्यकर्ता व समर्थक चंद्रशेखर ट्रस्ट पर पहुंचे, और पूरे दिन उन्हें जन्मदिन की बधाई देते रहे, पूर्व मंत्री यशवंत सिंह की खासियत यह है कि वह पूरे समय अपने लोगों के बीच में ही बिताने का कार्य करते हैं, जो उनकी लोकप्रियता को दर्शाती है । दूसरी तरफ देखा जाए तो सांसद दिनेश लाल यादव उर्फ निरहुआ क्षेत्र में अपनी उपस्थिति दर्ज करते रहते हैं, लेकिन जब मीडिया उनसे सवाल करती है, चुनाव लड़ने की तो, उसको टाल देते हैं, कभी खुलकर चुनाव लड़ने की बात नहीं करते हैं ।

वहीं इस समय एक होर्डिंग जनपद के कई हिस्सों में दिखाई दे रही है, जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, सांसद दिनेश लाल यादव उर्फ निरहुआ के साथ ही भोजपुरी स्टार आम्रपाली दुबे का भी फोटो लगा हुआ है। ऐसी होर्डिंग के लगने का आजमगढ़ की जनता कई मायने निकाल रही है। लोगों का कहना है कि अगर दिनेश लाल यादव उर्फ निरहुआ चुनाव नहीं लड़ते हैं, तो हो सकता है भोजपुरी स्टार आम्रपाली दुबे के लिए लोकसभा के टिकट का सिर्फ नेतृत्व के सामने पक्ष रख सकते हैं, ऐसे हाल में देखना है कि आजमगढ़ की इस वीआईपी सीट पर भाजपा कार्यकर्ताओं की धड़कन पूर्व मंत्री यशवंत सिंह को टिकट देती है, या सांसद दिनेश लाल यादव उर्फ निरहुआ या भोजपुरी हीरोइन आम्रपाली दुबे को, या किसी अन्य को अपना प्रत्याशी बनाती है, खैर अभी कुछ दिन बाद ही यह भाजपा क्लियर करेगी कि किसको टिकट आजमगढ़ लोकसभा से देना है, लेकिन भारतीय जनता पार्टी अपनी नज़रें आजमगढ़ की हार्ट सीट पर लगाए बैठी है, और भाजपा को पूरा विश्वास है कि जिस तरह से दिनेश लाल यादव उर्फ निरहुआ को यहां की जनता ने सांसद बनाया उसी प्रकार वह जिसको भी टिकट दे देगी, आजमगढ़ की जनता उसे लोकसभा का चुनाव जीताकर संसद में भेजने का कार्य करेगी ।