आजमगढ़ से वरुण सिंह

आजमगढ़ । सिधारी पुलिस व एसटीएफ उत्तर प्रदेश की टीम ने संयुक्त रूप से हत्या, डकैती सहित आधा दर्जन से अधिक अपराध करने वाले व आजमगढ़ की जेल से फरार होने वाले एक लाख इनामियां को मुठभेड़ के दौरान गिरफ्तार किया है, गिरफ्तार जितेंद्र मुसहर के पैर में गोली लगी है, वही दूसरा अपराधी अंधेरे का फायदा उठाकर फरार हो गया, गिरफ्तार अपराधी गाजीपुर का रहने वाला है
बता दें कि जितेंद्र मुसहर ने जीयनपुर कोतवाली क्षेत्र के लाटघाट बाजार में 21. 3. 2014 की रात जीवन ज्योति किल्ली के मालिक डॉक्टर विनोद यादव के घर में डकैती की घटना की थी, उस दौरान उसने डॉक्टर विनोद यादव एवं उनकी पत्नी डॉक्टर संगीता यादव को अर्धनग्न करके बेरहमी से हत्या भी कर दी थी, जिसके कारण पूरा क्षेत्र दहल गया था, जिसका वास्तविक खुलासा अब तक पुलिस नहीं कर पाई थी, लेकिन जितेंद्र मुसहर के गिरफ्तार होने के बाद डॉक्टर दंपति की हत्या की याद लोगों की जहां में ताजा हो गई,
इसके अलावा जितेंद्र मुसहर ने दिनांक 25. 3. 2014 को जौनपुर जनपद के केराकत थाना क्षेत्र के सोहनी ग्राम में अगरतु एवं उनकी पत्नी जुवरा देवी की बेरहमी से हत्या किया था, इसके अलावा इसने 21. 5. 2014 को बलिया जनपद के फेफना थाना क्षेत्र स्थित मुलायम नगर में डकैती की घटना के दौरान एक व्यक्ति की मौके पर हत्या के अलावा दो महिलाओं को गंभीर रूप से घायल कर दिया था, वहीं आजमगढ़ जनपद के तरवां थाना क्षेत्र की ग्राम तरवां  कांतूसिंह सिंह का पुरवा स्थित मंदिर में डकैती के दौरान पुजारी अनिल शर्मा सहित ग्रामीण सत्यनारायण विश्वकर्मा एवं दीपक सिंह की ईंट व धारदार हथियार से हत्या कर दी थी ।
बता दें कि जितेंद्र मुसहर ने जब आजमगढ़ के तरवां थाना क्षेत्र स्थिति मंदिर में सो रहे एक पुजारी दो ग्रामीणों की हत्या किया था, उस दौरान पुलिस ने जितेंद्र मुसहर को गिरफ्तारी करके जेल भेज दिया था, जेल में रहने के दौरान जितेंद्र को जेल में खाना बनाने का कार्य मिला था, इस दौरान जितेंद्र मुसहर 18. 8. 2016 को रक्षाबंधन के दिन खाना बनाने के उपरांत खाना बनाने वाले कल्चुल, चादर एवं गमछे की मदद से जेल की दीवार फटकार अपने साथी चंद्रशेखर व प्रकाश के साथ फरार हो गया था ।