जनपद संवाददाता प्रदीप कुमार पाण्डेय।

गाज़ीपुर। पुलिस अधीक्षक ओमवीर सिंह द्वारा अपराध एवं अपराधियों के विरुद्ध चलाए जा रहे अभियान के अंतर्गत अपर पुलिस अधीक्षक ग्रामीण के कुशल मार्गदर्शन व क्षेत्राधिकार जमानिया के निकट पर्यवेक्षण में 22 फरवरी 24 को लगभग 12 बजे रात को चौकी प्रभारी देवल के जरिए मुखबिर सूचना मिली कि अपहरण तथा हत्या का आरोपी संजय नट अपने गांव से निकलकर मोटरसाइकिल से भदौरा की तरफ जा रहा है ।सूचना पर चौकी प्रभारी देवल द्वारा हत्या आरोपी अभियुक्त को अपनी टीम के साथ घेराबंदी कर रोकने का प्रयास किया ।अभियुक्त ने मोटरसाइकिल को झटका देते हुए भदौरा की ओर भागा ।घटना के सूचना तत्काल प्रभारी निरीक्षक गहमर को दी गई ।भदौरा तिराहे पर अपनी टीम के साथ मौजूद प्रभारी निरीक्षक द्वारा आगे घेराबंदी कर दी गई ।जिसे मिश्रौलिया गांव के पास मोड पर आगे और पीछे से पुलिस टीम द्वारा घेराबंदी की गई तो बदमाश ने मोटरसाइकिल भी सड़क पर गिराकर सड़क के किनारे छुपकर पुलिस टीम पर लक्ष्य बनाकर जान से मारने की नीयत से फायर करने लगा। पुलिस टीम द्वारा आत्म रक्षा के लिए संतुलित जवाबी फायरिंग की गई ।बदमाश के दाहिने पैर में गोली लगी। मानवीय दृष्टिकोण अपनाते हुए उसे सीएचसी भदौरा भेजा गया ।बताते चले की 19 फरवरी को लगभग 3बजे एक नाबालिक बच्चे जिनकी उम्र लगभग 9 वर्ष थी गायब हो गया था ।काफी तलाश करने के बाद बच्चे के अपहरण का मुकदमा पंजीकृत किया गया और मुखबिर की सूचना पर पड़ोसी संजय नट पुत्र लतीफ नट के घर से गुमशुदा बच्चों का शव बरामद हुआ था ।पुलिस ने विधि कार्रवाई करते हुए उसे जेल भेज दिया।