(अतरौलिया) आजमगढ़ । स्थानीय थाना क्षेत्र के अंचलीपुर गांव निवासिनी पीड़ित महिला मिथिलेश पत्नी लाल बहादुर पांडेय ने स्थानीय थाने पर प्रार्थना पत्र देकर आरोप लगाया है कि शुक्रवार को समय 11 बजे दिन में अपने पति के साथ इलाज कराने सौ शैय्या हास्पिटल अतरौलिया आई थी, जहां पर डा0 सन्तोष वर्मा को दिखाई, और खून जाँच कराने रूम न0 105 में गयी थी। दवा इलाज के बाद गेट पर आयी तो पता चला कि मेरी गले की चैन नही है, तो मैं घबरा कर अपने पति के साथ घर चली आयी जहाँ मेरी लड़की ने पूछा कि मम्मी गले का चैन कहा है तो मैने रोते हुये कही कि मेरा चैन खो गया है । लड़की ने देखा तो चैन का लाकिट बेलाउज में मिला, फिर मैं हास्पिटल आई, बहुत खोजबीन किया लेकिन चैन नही मिला तो इसकी सूचना कन्ट्रोल रूम को दिया जिस पर थाने की पुलिस गयी और खोजबीन किया । जब नही मिला तो थाने पर आकर सूचना दी, और कानूनी कार्यवाही करने की मांग की। थानाध्यक्ष ने बताया कि पीड़ित महिला को घर पहुँचने पर चैन खोने की जानकारी हुई। तहरीर प्राप्त होने पर मुकदमा पंजीकृत कर लिया गया है।