रिपोर्ट प्रदीप कुमार पाण्डेय 

मुहम्मदाबाद यूसुफपुर (गाजीपुर)। स्थानीय थाना कोतवाली अंतर्गत प्राइवेट हॉस्पिटल और ट्रॉमा सेंटरों की भरमार हो गई है। स्थिति यह है की इन ट्रामा सेंटरों पर ना तो कोई उचित व्यवस्था है और ना ही सही चिकित्सा उपलब्ध है परिणाम स्वरुप आए दिन कोई ना कोई दुर्घटना हो रही है।

घटना के बारे में बताते हुए प्रसुता के चाचा नौशाद अंसारी हुआ और पति शाहिद अंसारी ने अपने संयुक्त बयान में बताया कि हम लोग यूसुफपुर नवापुर के निवासी है अचानक राशि लगभग 1:00 बजे पत्नी जैनब को पेट में दर्द हुआ पति व परिजन तत्काल उसे स्थानीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर लाए जहां पर उपस्थित नर्स ने बताया कि यहां पर्याप्त सुविधा उपलब्ध नहीं है इसलिए इसे जनपद ले जाया जाए परिजन प्रसूता की स्थिति को देखते हुए मोहम्मदाबाद बलिया मार्ग पर अंबा हॉस्पिटल लेकर लगभग 2:00 बजे आए जहां चिकित्सक ने प्रसुता को भरती ले लिया और परिजनों को यह आस्वस्थ किया की नॉर्मल डिलीवरी हो जाएगी अचानक सुबह डॉक्टर ए. के. राय ने परिजनों को बताया कि बच्चों की स्थिति ठीक नहीं थी इसलिए ऑपरेशन करना पड़ा इसी क्रम में ऑपरेशन कर बच्चे को बाहर निकाल गया जहां थोड़ी देर बाद नवजात शिशु की मौत हो गई परिजनों से चिकित्सक से पूछने पर बताया की कोई बात नहीं है लेकिन थोड़ी देर बाद पता चला की शिशु मर चुका है रोते बिलखते परिजट चिकित्सक को ढूंढने लगे लेकिन चिकित्सालय में चिकित्सक उपलब्ध नहीं था परिजनों ने अस्पताल के स्टाफ पर या आरोप लगाया कि चिकित्सालय के लापरवाही से बच्चों की मौत हुई है