फार्रूखाबाद जनपद में सुभासपा का एक कार्यकर्ता गले में पीला गमछा डालकर नवाबगंज थाने पहुंच गया, और रौब झाड़ने लगा, जिसके बाद थाने में मौजूद दरोगा ने डांट-फटकार लगाते हुए गले से गमछा उतरवा कर मोबाइल भी छीन लिया और थाने से भगा दिया?   इस बात की जानकारी होने के बाद सुभासपा के  कार्यकर्ता नवाबगंज थाने पहुंचे, और कार्रवाई की मांग को लेकर विरोध प्रदर्शन करने लगे, कार्यकर्ता संतराम की शिकायत पर जिलाध्यक्ष संजेश कश्यप, जिला प्रभारी रामकुमार, सुशील कश्यप, धनदेवी, महेंद्र सिंह, सुधा देवी, शारदा देवी, अरविंद, संजय, सीताराम समेत लगभग एक दर्जन से अधिक कार्यकर्ताओं के साथ सोमवार दोपहर बाद थाने पहुंचे, उन्होंने थाने पर मौजूद थानाध्यक्ष आमोद कुमार सिंह से मामले की शिकायत कर पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई की मांग की, जिलाध्यक्ष ने कि हमारे पदाधिकारी से पुलिस ने अभद्रता की है, गमछा और मोबाइल छीन लिया था, दरोगा से जब बात करने गए, तो वहां भी शालीनता से बात नहीं की गई, बताया कि थाना प्रभारी से बात हुई है, व्यवहार में सुधार न हुआ तो धरना प्रदर्शन किया जाएगा, बता दें कि सुभासपा अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभार ने पिछले दिनों मऊ के एक कार्यक्रम में पदाधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा था, कि अब हम सरकार में है, मुख्यमंत्री योगी के बाद दूसरे नंबर का ओहदा है, थाने का दरोगा क्या डीजीपी में भी यह पूछने की हिम्मत नहीं है, कि किसी को मैंने भेजा है, इसलिए 20 ₹25 का पीला गमछा डालकर जाओ थाने में हर काम होंगा ।